Graphic Designing क्या है और एक ग्राफिक डिजाइनर बनने का सही तरीका

ग्राफिक डिजाइनिंग की इस परिभाषा को “अमेरिकन इंस्टिट्यूट ऑफ ग्राफिक आर्ट्स (AIGA)” ने दिया है “ग्राफिक डिजाइन टाइपोग्राफी, फोटोग्राफी, आइकनोग्राफी और चित्रण के उपयोग के माध्यम से दृश्य संचार और समस्या-समाधान की प्रक्रिया है.”

साधारण शब्दों में कहें तो विचारों, अनुभवों को विजुएल माध्यम से प्रस्तुत करने का कार्य ही ग्राफिक डिजाइनिंग कहलाता है.

जिसके अंतर्गत किसी जानकारी को लोगों तक पहुँचाने के लिए पिक्चर्स, शब्द, आइकन तथा सभी का मिश्रण से विशेष इफेक्ट्स तैयार किया जाता है. जिसमें उद्देश्य प्राप्ती भी शामिल रहती है.

इन परिभाषाओं का अध्ययन करने के बाद मालूम चल गया है कि ग्राफिक डिजाइनिंग शब्द में Graphic का मतलब Visual होता है. इसलिए, यह सारा खेल विजुएल्स का ही है.

और ये विजुएल कुछ भी हो सकता है. जिसमें कंपनीस लोगो से लेकर बिजनेस कार्ड और वेबसाइट से लेकर लेटर पैड तक शामिल है.

आज हमारी जिंदगी डिजिटल मीडिया के चारों तरफ घूम रही है. अब आप अपने मोबाइल फोन को ही ले लिजिए. आप रोजाना विभिन्न एप्स, वेबसाइट्स पर विजिट करते हैं. कुछ एप्स तथा वेबसाइट आपको पहली नजर में ही आकर्षित कर लेती है. इसके पीछे कारण होता है उसका लेआउट जिसे ग्राफिक डिजाइनर द्वारा तैयार किया जाता है.

ग्राफिक डिजाइनिंग में ग्राफिक्स बनाना ही मुख्य उद्देश्य होता है. तैयार की गई इन ग्राफिक्स का प्रिंटिंग में, वेबसाइट में तथा अन्य क्षेत्रों में खूब इस्तेमाल किया जाता है.

साथ में निजी क्षेत्र से लेकर बड़े-बड़े बिजनेस और सरकारों द्वारा अपने कार्यों, प्रोडक्ट्स को आम जन तक पहुँचाने के लिए होता है.

ये भी पढ़े Demat Account kholne ka sahi tarika

Graphic Designer कौन होता है 

ग्राफिक डिजाइन का काम करने वाला व्यक्ति ही ग्राफिक डिजाइनर कहलाता है.

 ग्राफिक डिजाइनर को विजुएल कम्युनिकेटर भी कहा जाता हैं. जो विजुएल कंसेप्ट्स बनाने के लिए हाथों या फिर किसी सिस्टम (कम्प्यूटर) पर सॉफ़्टवेयर का इस्तेमाल करता हैं.

एक ग्राफिक डिजाइनर शब्द, फोटू, आइकन आदि का भौतिक रूप या फिर वर्चुएल आर्ट रूप तैयार करता हैं. जो अपने डिजाइन के माध्यम से विचारों को, किसी जानकारी को लोगों तक पहुँचाते हैं. एक जानकारी को या विचार को लोगों तक पहुँचाने के पीछे एक उद्देश्य होता है.

ग्राफिक डिजाइनर मुख के बजाए अपने डिजाइन से कम्यूनिकेट करता हैं.  

ग्राफिक डिजाइनर का मुख्ये उद्देश्य यही होता है कि जिस संस्था, कंपनी, व्यक्ति ने उसे हायर किया है. वह उन्हे बेहतरीन कार्य करके दें. ताकि संबंधित संस्था, कंपनी, व्यक्ति को उसका उद्देश्य प्राप्ती में सहुलियत मिले और कम से कम समय में संदेश आम जन तक पहुँच सके.

अत: हम कह सकते हैं कि एक ग्राफिक डिजाइन विजुएल थिंकिंग प्रॉब्लम सॉल्वर और एक कम्युनिकेटर होता है.

ये भी पढ़ें एक सफल व्यवसाय चलाने का सही तरीका

Graphic Designer बनने के लिए जरूरी कौशल

हर फील्ड की तरह ग्राफिक डिजाइनिंग के क्षेत्र में भी कार्य करने के लिए कुछ मापदण्डों का पालन करना पड़ता है. जिनकी प्राप्ती हेतु विभिन्न कौशल चाहिए होते हैं.

इसलिए, आप इस फील्ड में करियर बनाना चाहते है तो आपको निम्न कौशलों में माहरती बनना पड़ता है.

  • सृजनात्मकता – Creativity
  • सॉफ़्टवेयर ज्ञान – Software Knowledge
  • समय का प्रबंधन – Time Management
  • विजुलाइजेशन – Visualization
  • संचार कौशल – Good Communication Skills
  • टीम भावना – Ability to Work with Detail
  • सूक्ष्मता से कार्य करने की कला – Ability to Work in Detail
  • विजुएल डिजाइन का हुनर – Skills in Visual Design
  • व्यवहार कौशल – Good Interpersonal Skills
  • समय-सीमा पर कार्य करना – Ability to Work in Strict Deadlines
  • टाइपोग्राफी की समझ – Understanding of Typography
  • कलर सिद्धांत की जानकारी – Knowledge of Color Theory

1 ग्राफिक डिजाइन कोर्स करें

ग्राफिक डिजाइनिंग को लेकर इच्छुक विद्यार्थी 12वीं कक्षा पास करके किसी भी स्ट्रीम (विज्ञान, कला तथा वाणिज्य) से ग्राफिक डिजाइनिंग का कोर्स पर्सू (Pursue) कर सकते हैं

.

इस कोर्स को करने के लिए किसी विशेष स्ट्रीम से पास होने की आवश्यकता नही हैं. इसलिए, कोई भी विद्यार्थी ग्राफिक डिजाइनिग में बेहतरीन करियर बनाकर डिजिटल लाइफ जी सकता हैं.

ये भी पढ़ें अच्छा लीडर बनने का सही तरीका।

ग्राफिक डिजाइन कोर्स में क्या पढ़ाया जाता है 

यदि आप ग्राफिक डिजाइनिंग फील्ड में करियर बनाना चाहते है तो आपके दिमाग में यह प्रशन उठ सकता है कि ग्राफिक डिजाइनिंग कोर्स के दौरान सिलेबस में हमें क्या-क्या पढ़ाया जाता हैं?

तो बता दूँ युनिवर्सिटीज के हिसाब से ग्राफिक डिजाइन कोर्स का पाठ्यक्रम अलग-अलग होता है. लेकिन, सामान्यत: सभी कोर्से कुछ ग्राफिक डिजाइन बेसिक्स को जरूर कवर करते हैं

  • Introduction to Graphic Designing
  • Shaping, Design & Illustration
  • Typography
  • Graphic Designing Software & Tools
  • Image Layout & Effects
  • Photoshop
  • Corel Draw
  • Illustrator
  • InDesign
  • HTMLJavaScript
  • Adobe Dreamweaver
  • Adobe Flash
  • Adobe Audition
  • Computer Fundamentals
  • Art & Visual Perception
  • Vector Graphics for Designers
  • Graphic Designing Job Opportunity

ग्राफिक डिजाइनिंग का फील्ड जॉब के अवसरों से भरा पड़ा है. यदि आप एक कुशल ग्राफिक डिजाइनर हैं तो आपको विभिन्न प्रकार की फर्म में ग्राफिक डिजाइनिंग के लिए अच्छे पैकेज में जॉब ऑफ़र दिया जा सकता हैं.

एक ग्राफिक डिजाइनर का क्या काम होता हैं?

ग्राफिक डिजाइनर की भूमिका एक कंपनी में विजुएल कंसेप्ट्स को बनाने को लेकर होती है. इसका मुख्य उद्देश्य फर्म की आवश्यकताओं को पूरा करना होता है. जैसे; एडवर्टाइमिंग मैगजीन, वाउचर तैयार करना तथा एप्स, वेबसाइट के लिए लेआउट तैयार करना होता है.

 

 

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply