व्यक्तित्व निखारे : पर्सनालिटी डेवलपमेंट

व्यक्तित्व निखारे : पर्सनालिटी डेवलपमेंट

व्यक्तित्व कैसे निखारे, जिसे हम सामान्य भाषा में पर्सनालिटी डेवलपमेंट कहते है, ये व्यक्तित्व विकास में बहुत जरूरी है | पर्सनालिटी यानी व्यक्तित्व क्या है, ये लोगो का आपकी तरफ आचरण होता है, कुछ लोग होते है जिनसे मिलकर हमे अच्छा लगता है , वो हमे अपने से लगते है | जब कोई हमे सम्मान, इज़्ज़त देता है, हमारी

मदद करता है, हमे देख कर मुस्कुराता है, हमे पहचानता है,हमारी बातें सुनता है, और हमे उससे कुछ नया सीखने को मिलता है,  तब हम उन लोगो को एक अलग नज़र से देखते है, उनका व्यक्तित्व काफी आकर्षक लगता है और हम उनसे बार बार मिलना चाहते है, और उनके साथ वक्त बिताना चाहते है |

 

जब हमे ऐसी पर्सनालिटी अच्छी लगती है तो हम अपने को क्यों नहीं बदल सकते. आइये जाने की व्यक्तित्व निखारने के लिए क्या क्या जरूरी है|

 

1. मुस्कुराये, जब भी किसी से मिले मुस्कुराये 

 

क्या आपने ध्यान किया की की बहुत से लोग जब मिलते है तो मुस्कुराते नहीं है | आज जब आप किसी से मिलें तो धयान दे की आप मुस्कुरा रहे है की नहीं | आपको भी अचरज होगा की आप कितना कम मुस्कुराते है |

जब आप मुस्कुराते है, जो सारा जहाँ मुस्कुराता है, आपके आस पास के लोग भी आपके अच्छे व्यक्तित्व से प्रभावित होते है | मुस्कुराने का मतलब है की आप दूसरो को अपनी ज़िन्दगी में महत्व दे रहे है, सामने वाले को लगता है कि आप उसे पसंद करते हैं, इम्पोर्टेंस किसको अच्छी नहीं लगती |

 

2. दूसरो का सम्मान करें 

 

रेस्पेक्ट करें , हर व्यक्ति अलग होता है, उसके आस पास के लोग, उसका वातावरण आपसे अलग होता है | कभी भी किसी की तुलना किसी से न करें, अपने आप से भी नहीं | जब आप दूसरो का सम्मान करते है तो आपका सम्मान अपने आप हो जाता है | अगर आप लोगो को कुछ अपशब्द कहते है, तो वो भी आप को वैसे की सम्भोधित करेंगे | अपनी गरिमा बनाये और दूसरो की भी | इसे आपकी लोकप्रियता काफी बढ़ जाती है |

 

3. लोगो से मिले, सोशल बने, सामाजिक बने

 

सामाजिक कुशलता (सोशल स्किल्स ) वो कौशल होता है जिसे हम लोगो से मिलने जुलने में इस्तेमाल करते है, जैसे की, आवाज, बॉडी लैंग्वेज,  भाषा, आपका अच्छा दिखना | जैसे की आप लोगो से जा कर मिलते है, अगर कोई आपसे मिलता है जो आप हाथ मिलाते हो, मुस्कुराते हो, उसे पूछते हो वो कैसा है | जो भाषा उसे आती है उसी भाषा में बातचीत करना | उदाहण के लिए, की जब कोई अँगरेज़ आपके पास होता है तो आप हिंदी में बात नहीं करते | हमारा ८०% संप्रषण, कम्युनिकेशन हमारी बॉडी या चेहरे से होता है | इसका धयान रखे|

 

4. आपका बातचीत करने का तरीका 

 

आपके बातचीत, वार्तालाप करने के ढंग से लोगो पर सीधा असर पड़ता है, पर खाली कॉन्फिडेंस, आत्मविश्वास से कुछ नहीं होता है, आपको अपने विषय, सब्जेक्ट मैं पूरी जानकारी होनी चाहिए | जब आप बोले तो लोग आपको सुने, आपका अपना विचार, समझ, रॉय होने चाहये | इसके लिए पढ़े और ज्ञान अर्जित करें | बातचीत जब हम करते है, तो दो तरह के लोग होते है, एक जो विचार प्रगट करते है, और एक जो सुनते है, बातचीत में एक बहुत महवपूर्ण बात है सुनना | आपको एक बड़े व्यवहारिक होने के लिए कुछ जयादा नहीं करना है बस दूसरो के विचारो को अच्छे से सुनना है |

 

5. परिधान और वेश भूषा

 

हर जगह के अपने तौर तरीके होते है, पहनावा होता है, अगर आपको अपने व्यक्तित्व में निखार लाना है तो पहनावा बहुत ही महत्व रखता है | एक ऑफिस का पहनावा एक क्लब या एक कॉलेज के पहनावे से बिलकुल अलग होता है | अपने श्रोतागण, धर्शको, मित्रो पर धयान दे, आप अगर अच्छे कपडे पहन कर उपस्थित है, तो लोग आपके आस पास जयादा रहेंगे और आपको अजीब लगने से बच जायेगे | जब आप ऑफिस जाये तो शर्ट पैंट, कोट पहन कर जाये |

 

अपने पर्सनालिटी को कैसे निखारे, कुछ नए और असरदार नुस्खे 

 

1. अपने लक्षण, विशेषता को पहचाने 

 

देखे की अपने अंदर या बहार आप ऐसा क्या बदल दे की आप को सबसे जयादा फायदा हो, क्या आप के जीवन में आपको किसी बात के लिए सबसे जयादा टोका जाता है , या फिर वो जो गलत है और आप ठीक करना चाहते हो |

 

2. व्यवहार, बर्ताव, आचरण पर धयान दे 

 

कोशिश करे की आप आपने आप पर एक नज़र रखे, आचरण पर धयान दे , आप क्या गलत कर रहे है उसको पहचाने और ठीक करें

 

3. छोटे छोटे चरणों में ठीक करें 

 

आप एकदम से तो नहीं बदल सकते,  छोटे छोटे चरणों में विकास करे, छोटी सफलता प्राप्त करें, ये सालो की मेहनत है | एक दिन और एक महीने में नहीं हो सकता है |

 

4. जागरूक, चौकस रहे 

 

अपनी उन्नति को और बढ़ाये, और कोशिश करें, कभी आप फिर से पुराने ढरे पर चल सकते है पर ऐसा होगा, धयान रखे और सफल प्रयोग करे और आगे बढ़ते रहे|

 

5. निश्चित संकल्प और पॉजिटिव, सकारात्मक विचार 

 

अपने आप से बात करे कुछ इस तरफ से बात करे

  • मैं बहुत अच्छा हूँ
  • मैं कर सकता हूँ
  • मेरे साथ सब अच्छा होगा
  • मैं आपके कर्म के लिए उत्तरदायी हूँ

 

हमारे इमोशन/ भाव हमसे ही जन्म लेते है, और हम जैसे सोचे वैसा होगा |

 

Agar aapko ye Blog padh kar achcha laga aur kuch achcha ya naya sikha aapne toa apne dosto ko bhi sikhaye. Aur unhe ye link share kare. Humari ye koshish rahegi ke aapko hum rozana kuch naya sikhaye.

Agar aapko humse kuch poochna hai toa comment me aap pooch sakte hai.

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply