पढ़ाई में मन कैसे लगाये

पढ़ाई में मन कैसे लगाये

आइये आज हम आपको बताते है कि पढ़ाई में मन कैसे लगायें क्योकि यह समस्या सभी के साथ होती है | और ज्यादातर परीक्षाओ के उपरांत ज्यादा होती है | उस समय आपको क्या करना चाहिए जिससे कि आप अच्छे से पढ़ाई कर सके आइये बताते है |

एकांत में बैठकर पढ़ें –

जब आपकी परीक्षा निकट आ गयी है आपने पढ़ाई नही की है उस समय आप चुपचाप अपनी किताब उठाइए और ऐसी जगह जाके बेठ जाइये जहा शांति हो कोई शोर शराबा न हो | और विना किसी और चीज के बारे में सोचे किताब खोलकर पढ़िए आपको अच्छे से समझ आएगा और मन लगेगा | क्योकि जहा शोर हो रहा होता है वहा आपका ध्यान भटकता है |

धीमी आवाज में गाने सुनें –

आप पढ़ाई करते समय Earphone लगाकर धीमी आवाज में गाने सुनते हुए भी पढ़ाई कर सकते है उससे आपका ध्यान किताब पर ही रहेगा इधर-उधर नहीं भटकेगा यह भी पढ़ाई में मन लगाने का अच्छा तरीका है |

Task बना कर पढ़ें –

जब भी आपको अच्छे से पढ़ाई करनी है तो सबसे पहले एक task बना लीजिये कि मुझे आज कैसे भी इतना पड़ना है | ऐसा करने से आप का मन स्वतः लगेगा और यही लगेगा कि आज यह खत्म करना ही है |

समय Decide करलें –

आप अपनी पढ़ाई बनालें कि आपको इतने बजे से इतने बजे तक पढ़ना ही है जैसे ही वो समय होगा तो आपका मन करेगा कि आपको पढ़ना है और आप सबकुछ छोड़कर पढ़ने बैठ जाओगे |

Short Notes बनाएं –

आप अपने सारे Subjects के खुद से नोट्स तैयार करे जिसमे आप मुख्य चीजों के बारे में लिखलें जिससे कि आप उसे देखो तो याद आ जाय कि आपने क्या पढ़ा है | यह Revision के लिए बहुत अच्छा तरीका है | परीक्षा से पहले एकबार देखलें तो सब याद आ जाता है |

लिखकर पढ़ें –

आप जब भी पढ़ाई करते हो तो उसे साथ ही साथ लिखते चलो जो भी पढ़ रहे हो लिखकर पढ़ने से जल्दी हमे यद् हो जाती है चीजें और मन भी लगता है बोर नहीं होते है |

दोस्तों से समझें –

अगर आपको कोई चीज समझ नहीं आ रही है तो उसे छोड़ दो उस पर समय खराब मत करो और जाकर अपने दोस्तों या अध्यापको से उसको पूछो और समझो |

हर चीज की दिमाक में तस्वीर बनाए –

आप जो भी चीज पढ़ रहे है उसकी अपने दिमाक मैं तस्वीर बनाए और उसे उसके साथ छोड़े ऐसा करने से आप कभी भी उस चीज के बारे में भूल नहीं पाओगे यह सबसे अच्छा और मजेदार तरीका है आपका मन भी लगेगा पढ़ने में मजा आएगा|

धन्यबाद !

Content Protection by DMCA.com

Random Posts

Leave a Reply