माथे पर तिलक क्यों लगाया जाता है जान लीजिये वैज्ञानिक कारण

हमारे हिन्दू धर्म में यह एक रीति रिवाज है कि पूजा, विवाह ,या किसी शुभ कार्य को करते वक़्त माथे पर तिलक लगाया जाता है | तो क्या आप जानते है | कि माथे पर तिलक क्यों लगाया जाता है | यदि नहीं तो हम बताते है कि क्यों लगाया जाता है माथे पर तिलक पढ़िए –

माथे पर तिलक हमेशा माथे के बीच यानि कि बिलकुल केंद्र पर लगाया जाता है | और माथे के केंद्र पर लगाने के पीछे भी एक कारण है | कि हमारे शरीर में सात ऊर्जा केंद्र होते है | तिलक को माथे के बीच में इसलिए लगाया जाता है | क्योकि हमारे मष्तिक के बीच में ही हमारा आज्ञाकेन्द्र होता है | जिसे हम गुरुकेन्द्र कहते है | यह स्थान एकाग्रता और ज्ञान से परिपूर्ण होता है | गुरुकेन्द्र को बृहस्पति गृह का केंद्र माना जाता है | और बृहस्पति गृह तो सभी देवताओ के देव है |

जब भी तिलक लगाया जाता है तो वो अनामिका उंगली से ही लगाना चाहिए | क्योकि अनामिका उंगली सूर्य का प्रतीक होती है | और इस उंगली से तिलक लगाने पर तेजस्व और प्रतिष्ठा मिलती है | और जब मान सम्मान के लिए तिलक लगाया जाता है तो अंगूठे से लगाया जाता है | क्योकि जब अंगूठे से तिलक लगते है तो ज्ञान और आभूषण की प्राप्ति होती है | और जब विजय प्राप्ति के लिए तिलक लगाया जाता है तो तर्जनी उंगली से लगाया जाता है |

तिलक चाहे किसी भी रंग का हो हर रंग का तिलक ऊर्जा दायी और मान्य होता है | और सभी रंग के तिलक में ऊर्जा पायी जाती है | लेकिन सफ़ेद रंग चन्दन का तिलक हमेशा शीतलता के लिए लगाया जाता है | और लाल रंग का तिलक लगाने से ऊर्जा और पीले रंग का तिलक प्रसन्नचित रखने के लिए लगाया जाता है | और काले रंग का तिलक भी लगाया जाता है जो कि भोले जी के भक्त हमेशा बिभूति के रूप में लगाते है | काले रंग का तिलक मोहमाया से दूर रखने के लिए लगाया जाता है |

यह भी पढ़ें-

इस तरह बुधवार को गणेश जी की पूजा करने से होती है बिपत्ति दूर

इन 5 गुणों वाले व्यक्ति नहीं बन सकते है कभी धनवान

गायत्री मंत्र का जाप करने से होते है यह फायदे, जान लीजिये

आप कुछ चाहते है लेकिन हासिल नहीं कर पा रहे है जानिये क्यों ?

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply