कुछ आसान और सही तरीके अपने बच्चो को प्रदुषण से सुरक्षित रखने के लिए |

Airpocalypse: Assessment of Air Pollution in Indian Cities Greanpeace की रिपोर्ट बताती है की भारत में 47 मिलियन यानि के लगभग 4 हजार करोड़ बच्चे प्रदूषित शहरों में रहते है। भरता के इन राज्यों में Delhi,UP,Hariyana aur Maharashtra  भरी मात्रा में प्रदुषण होने के कारण यहाँ रहने वाले बच्चो का भविष्य ठीक नहीं है। आइये कुछ आसान और सही तरीके अपने बच्चो को प्रदुषण से सुरक्षित रखने के लिए जानते है।

बच्चो की बात करते है तो सीधा दिमाग में उनके भविष्य की बात आजाती है। भारत में बढ़ते प्रदुषण के बारे में तो सबको पता है। AIROPOCLYPSE का कहना है की आने वाले टाइम में भारत चीन को प्रदुषण के मामले में पीछे छोड़ देगा। यह बात गर्व करने वाली नहीं बल्कि शर्मंदगी की है। चलिए अब हम देश को छोड़ते  है, आपके और आपके बच्चो के बारे में बात करते है। क्या आप जानते है, भारत में लंग्स कैंसर से पीड़ित लोगो की संख्या दिन पर दिन बढ़ती जा रही है।

Avoid Auto Rikshaw (ऑटो रिक्शा का इस्तेमाल न करें )

दिल्ली यूनिवर्सिटी इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी और यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया के कुछ विशेषज्ञों ने दिल्ली की सड़को पर FEB से MARCH के महीनो में यात्रा की और प्रदुषण को नापा। उन्हें पता चला के दिल्ली की सड़को पर आम जगहों से ज्यादा प्रदुषण है।

ये भी पढ़ें: जानिये इंडिया क्रिकेट लीग 2018 के लिए क्रिकेट खिलाड़ियों की नीलामी कैसे चली।

इसलिए अगर आप दिल्ली की सड़को पर चलना चाहते है तो आपके लिए कार एक बोहत ही अच्छा इक्विपमेंट है। ये तरीका आप तभी अपना सकतें है अगर आपके पास कार हो।

AIR PURIFIER (हवा को साफ़ करने वाले यंत्र)

आज कल हवा में बढ़ते प्रदुषण को साफ़ करने के लिए बहार की कुछ कंपनियों ने प्रदूषित हवा को साफ़ करने के लिए एक यंत्र बनाया है। जिसे Air Purifier कहते है। इसका मतलब है हवा साफ़ करने वाला यंत्र।

ये यंत्र इंडिया में आने से पहले चीन के एक राज्य जिसका नाम बीजिंग है , वहा के लोग इसका उपयोग करते है। ये थोड़ा महंगा आता है। पर आपकी और आपको घर वालो की जान से महंगा नहीं है।

ये भी पढ़ें: जानें रहने के मामले में कौन सा देश है सबसे सस्ता | सही जानकारी | सही तरीका

ये हवा साफ़ करने वाला यंत्र एक बोहत ही जरुरी है आजकल के प्रदुषण को देखते हुए। इसे इस्तेमाल करने का तरीका ये है की ,इसे एक कमरे में कोने में रख दिया जाये और इससे चालु कर दिया जाये. फिर ये उस कमरे की हवा को एक दम साफ़ रखेगा। ये यंत्र हवा में मिले हुए खतरनाक पार्टिकल्स को साफ़ करते है।

बच्चो को और अपने आप को जितना हो सके घर के अंदर रखें, खासकर रात को।

प्रदुषण चाहे जितना बढ़ जाये पर नौकरी और बच्चो का स्कुल नहीं छूट सकता। इसलिए ऑफिस का काम ख़तम होने के बाद और बच्चो का स्कुल खतम होने के बाद. सीधा अपने घर जाये और घर के अंदर ही रहिये क्यूंकि अँधेरा होते ही ठण्ड बढ़ जाती है. और प्रदुषण की मात्रा बढ़ जाती है।

पिछले साल नेशनल पोल्लुशण कण्ट्रोल अथॉरिटी ने सुप्रीम कोर्ट के सामने एक बात राखी थी। के जिस दिन हवा में प्रदुषण की मात्रा ज्यादा हो बच्चो की स्कूल की छुट्टी कर देनी चाहिए। पर मिनिस्ट्री ऑफ़ एनवायरनमेंट, रोड्स और पेट्रोलियम ने इसका विरोध करते हुए ये अपील रद्द करा दी।

हमे अपने घरो के अंदर और आस पास पेड़ पौधें लगाने चाहिए।

ये एक बोहत ही ख़ास कदम है। अगर हमे पोल्लुशण से कोई बचा सकता है तो वो हमारे आस पास लगे पेड़ पोधें है। उनसे अच्छा Air Purifier कुछ नहीं है। इसलिए अपने घर के अंदर, बहार और आपने आस पास सब जगह पेड़ लगाइएये और अपना और अपने बच्चो का  भविष्य सुरक्षित कीजिये।

अच्छा खाना पीना और कसरत करना।

इंसान का शरीर एक बोहत ही दिलचस्प मशीन है। इंसान के शरीर को जिस तरीके से ढालना चाहो तो वो किसी भी वातावरण में ढल सकता है। तो इसलिए आज में आपको कसरत करने का फायदा बताऊंगा।

देखीये अगर आपको प्रदुषण से लड़ना है तो सबसे पहले अपने शरीर को उस योगये बनाना होगा। रोज़ सुबह उठकर कसरत करें। अपने लंग्स को हेअल्थी रखें। साफ़ सूत्रा खाने पीने का सेवन करें। और अपनी जिंदगी को हस्ते खेलते बिताये।

आशा करते इस आर्टिकल द्वारा आपको समझ आया होगा के बढ़ते प्रदुषण से कैसे लड़ा जाये। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी है तोह अपने घर वालो को भी इसके बारे में बताये। और कुछ सवाल पूछने है तो हमे कमेंट करें।

www.sahitarika.com

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply