सनातन धर्म क्या है इसे जानने का सही तरीका।

सनातन धर्म क्या है इसे जानने का सही तरीका।

सनातन धर्म क्या है ? ये  सवाल हर मनुष्य के अंदर से निकलती है तो आईये हम आपको क्रम वाईज़ बताते है सनातन धर्म के बारे में

Sanatan Dharma  शब्द, जिसे आज हम हिंदू धर्म कहते हैं, उसका मूल और सबसे उपयुक्त नाम है। Sanatan Dharma आचार संहिता, मानव मूल्य प्रणाली, जीवन के सिद्धांत और ज्ञान और मुक्ति का मार्ग है। सनातन धर्म दुनिया की सबसे प्राचीन और सबसे जीवंत जीवित परंपरा है। यह किसी भी धर्म की तुलना में इस अर्थ में कहीं अधिक व्यापक और समग्र है कि यह अपने अनुयायियों को एक संपूर्ण विश्व दृष्टिकोण और वास्तविकता का एक तार्किक और तर्कसंगत दृष्टिकोण प्रदान करता है।

सनातन धर्म की परिभाषा

मूल रूप से, सनातन धर्म का किसी विशेष संप्रदाय या किसी वैचारिक समूह से कोई झुकाव नहीं है। यह विचार वास्तव में इसके नाम से ही सुझाया गया है। सनातन शब्द अनादि (शुरुआत रहित) और अनंत (अंतहीन) की ओर इशारा करता है, जिसका अर्थ है कि यह समय से परे है और शाश्वत है। धर्म शब्द ‘धरी’ धातु से बना है जिसका अर्थ है धारण करना या धारण करना। सनातन धर्म वास्तव में प्राकृतिक नियम या वास्तविकता का सिद्धांत है जो ब्रह्मांड के डिजाइन के आधार पर है और इस अर्थ में यह प्राकृतिक, प्राचीन और शाश्वत है।

Sanatan Dharma का सार

सनातन धर्म के मूल में आस्था और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है। इसलिए ! अनुयायी अपनी क्षमता के अनुसार असंख्य तरीकों से परमात्मा का अनुभव करने के लिए! पूरी तरह से स्वतंत्र हैं और अपनी इच्छानुसार परमात्मा की !अपनी आराधना को पसंद और प्रकट करते हैं।

 इस प्रकार Sanatan Dharma वह धागा है जो अनुयायियों द्वारा विभिन्न रंगों, बनावट! और पैटर्न के कपड़ों में बुना और बुना जाता है। इसलिए, हिंदू धर्म में देवताओं !और संप्रदायों का ढेर मिलना स्वाभाविक है। यद्यपि अलग-अलग व्यक्ति धर्म! को अलग-अलग तरीके से प्रकट करते हैं, फिर भी वे सभी ईश्वर की एकता! को परम सत्य के रूप में अनुभव करने के लिए बाध्य हैं।

मनुष्यों द्वारा नहीं बनाया गया है सनातन धर्म 

Sanatan Dharma का कोई संस्थापक नहीं है। बेशक परंपरा को !दिव्य अवतारों, संतों, संतों और आध्यात्मिक व्यक्तित्वों !की लंबी कतार के योगदान से समृद्ध किया गया था। हालांकि, !उनमें से किसी को भी सनातन धर्म की स्थापना का श्रेय नहीं दिया गया है। जबकि यह! अपने मूल में शाश्वत है, इसे !अपौरुषेय कहा जाता है जिसका अर्थ है कि जो पुरुषों द्वारा नहीं !बनाया गया है। वही वेदों की स्थिति है जो शाश्वत शास्त्र हैं और किसी के द्वारा! लिखे गए नहीं हैं। ऋषियों ने केवल ध्यान के माध्यम से इन दिव्य स्पंदनों !को एकत्रित किया और उन्हें मानव समाज के सामने प्रकट किया।

सृष्टि की अंतर्निहित एकता

सनातन धर्म संपूर्ण ब्रह्मांड को सर्वोच्च वास्तविकता की अभिव्यक्ति के रूप में देखता है। इस तरह, सजीव और निर्जीव सहित सभी चीजों को एक ही ब्रह्मांडीय समीकरण के खंड के रूप में देखा जाता है। हम अपने आस-पास जो कुछ भी पाते हैं वह एक उच्च चेतना की विशेषता है और इस संबंध में, सब कुछ दिव्य और उदात्त है।

मनुष्य के लिए पथ

Sanatan Dharma का मुख्य उद्देश्य लोगों के पथों पर प्रकाश डालना और उन्हें पूर्णता प्राप्त करने का मार्ग दिखाना है। यह उस अविभाज्य बंधन पर जोर देता है जिसका मनुष्य सर्वोच्च वास्तविकता के साथ आनंद लेता है और उसे ईश्वर के साथ सर्वोच्च एकता की भावना को महसूस करने का प्रयास करने के लिए प्रेरित करता है। इसे सही मायने में मानव जीवन का सच्चा और अंतिम उद्देश्य कहा गया है।

We will be happy to hear your thoughts

Leave a reply

%d bloggers like this: